The Secret Formula for Brain Boosting


नमस्कार दोस्तों हमारी यह कोशिश रहती है, कि हम अपने जरिए आपको बेहतर जानकारी दे सकें। आज हम आपके लिए लेकर आए हैं, ऐसा खास टॉपिक जिसको आप पढ़कर आप अपनी लाइफ बदल सकते हो। आज हम आपको बतायेगे कि तेज दिमाग करने का ऐसा क्या सीक्रेट होता है। माइकल ने 7 साल की उम्र में दुनिया भर में स्विमिंग करके काफी सारे अवार्ड जीत लिए। टाइगर बोर्ड अपने पिता को Golf करते हुए देखते थे। देखते  ही देखते दुनिया के सबसे बड़े Golfer बन गए। लता मंगेशकर 3 साल की उम्र से गाना गाती थी और आज सबसे बड़ी गायका बन गई। सबसे पहले अभिभावकों को यह देखना होगा, कि बच्चों के साथ प्रॉब्लम कहां आ रही है ?अगर वह गणित में खराब है तो इसका मतलब यह नहीं कि उसको सिर्फ गणित ही सिखाई जाए।

  • Non academic- हमें बच्चों के नॉन एकेडमिक पार्ट को देखना है। यानी हमें सिर्फ पढ़ाई को नहीं देखना है। हमें यह देखना है कि हमारा बच्चा खेलकूद में आगे है, तो उसे उस फील्ड में मोटिवेट करें। अगर बच्चे को उसके इंट्रेस्ट के अकॉर्डिंग पढ़ाया जाये तो बच्चे का इनोवेशन पावर खत्म हो जाती है। वह हेजिटेट फील करता है, उसे शर्म आती है। वह अपनी क्वेश्चन स्कोर क्लास में नहीं पूछ पाता इसलिए वे पढ़ाई में कमजोर होता है। लेकिन अगर हम उसके पढ़ाई से हट कर दूसरे फील्ड को देखें तो किसी ना किसी चीज में वह एक्सपर्ट होगा।
  • Multi intelligence test-हमें बच्चे का मल्टी इंटेलिजेंस टेस्ट भी कराते रहना चाहिए। ताकि हमें यह पता चल सके कि हमारा बच्चा किस फील्ड में तेज है। dominant,influence,steady जैसे  बगुला होता है उसका ध्यान अपने शिकार पर रखता है, उल्लू की नजरें हर तरफ होती हैं कहीं कोई गड़बड़ तो नहीं हो रही। इसी प्रकार बच्चे का इंटेलिजेंट टेस्ट कराना चाहिए। ताकि यह पता चल सके क्यों उसकी स्ट्रेंथ छमता क्या है ?वीकनेस क्या है ?उसकी फील्ड सिलेक्शन का पता चल जाएगा।
  • Memory science-अगर आपके बच्चे की मेमोरी वीक है। क्या आपने अपने बच्चे की मेमोरी बढ़ाने का काम किया। जैसे आपको मालूम नहीं होगा कि टेलीफोन का आविष्कार किसने किया। आप अपने माइंड में कनेक्ट करके याद कर सकते हो, कि टेलीफोन की घंटी बज रही है घंटी बज बज के कर्म हो गई। इसका मतलब फोन Graham bell ने इन्वेंट किया था। ऐसे बच्चे को जल्दी याद हो जाएगा और वह कभी नहीं भूलेगा।
  • Speed, reading and writing-आजकल काफी टेक्निक आ गई है। अगर हम अपने बच्चे को उस टेक्निक में कोडिंग पढ़ाएं तो बच्चा काफी एडवांस बन सकता है। उसको आप स्पीड राइटिंग सिखा सकते हो।
  • Robotic and coding-सहारन सुरेश नाम का एक लड़का। जिसने 5 साल की उम्र में एक रोबोट बनाकर तैयार कर दिया था,क्योंकि उसके पापा ने उसको रोबोट लाकर दिया था। उसको उस में इंटरेस्ट आने लगा और वह उसे बनाने की कोशिश करता और उसने रोबोटिक चैन साइकिल बना दी। जो लोगों को दिखता नहीं है वह आसानी से चलने लगे रोबोटिक स्टिक बना दी।

 दोस्तों अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो, तो इसे जरुर लाइक करें। इस आर्टिकल को अपने दोस्त को भी शेयर करिए। आप इस आर्टिकल को शेयर करेंगे तो आपकी भी  इमेज अच्छी होगी, आपका दोस्तों यह सोचेगा कि यह है काफी अच्छी चीजें शेयर करता है। हमारे साथ जुड़े रहने के लिए सोशल मीडिया पर भी हमें फॉलो करिए क्योंकि वहां पर हम काफी एक्टिव रहते हैं। आप सबका हर बार की तरह हमारे साथ जुड़े रहने के लिए धन्यवाद।


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां