How to breathe while running, Solid Breathlessness trick

नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है, हमारी वेबसाइट जॉब शिक्षा में। आज हम उन लोगों के लिए आर्टिकल लेकर आए हैं, जिनकी रनिंग के टाइम जल्दी ही सांस फूलने लग जाती है। आज हम उनको बताएंगे कि कैसे उन्हें सांस लेनी है, जब वह रनिंग करते हैं। हमारे पास कमेंट आ रही थी, कि  रनिंग के टाइम सांस ना भूले हमें कैसे सांस ले। इसके ऊपर आर्टिकल लिखें। तो दोस्तों आज का टॉपिक है, दौड़ते वक्त सांस लेने की टेक्निक।

दोस्तों आप रनिंग करते हो तो यह आर्टिकल आप लोगों के लिए काफी फ़ायदेमंद रहेगा। अगर हम सांस ले रहे हैं, तो हमें मुंह से सांस लेना चाहिए या नाक से लेना चाहिए। चलिए जानते है....

  • First breathing-

दोस्तों अगर आप नॉर्मल रनिंग कर रहे हो या फिर जोगिंग कर रहे हो, तो आप नाक से सांस ले सकते हो और मुंह से बाहर निकाल सकते हो। लेकिन जैसे जैसे आपकी रनिंग बढ़ती जाएगी आप नाक से सांस लेने में प्रॉब्लम होती है इसलिए नाक और मुंह से दोनों से सांस लेने लगते हैं। क्योंकि हमारी बॉडी को रनिंग करते टाइम ऑक्सीजन की मात्रा ज्यादा चाहिए होती है। इसलिए हमें नाक और मुंह दोनों से ही हवा अंदर लेनी चाहिए। अगर आप ऐसा नहीं करते हो तो आपकी बॉडी को थकान होगी क्योंकि ऑक्सीजन की मात्रा कम हो जाएगी।

  • Technique of breathing-

यह एक  टेक्निक है, कि आप सिंपल  तरीके से सांस ले रहे हो या फिर आप बेली तरीके से सांस ले रहे हो। Belly breathing का मतलब होता है, कि अगर आप अपना हाथ अपने पेट पर रखोगे तो जब आप सांस लेते हो आपका पेट बाहर आना चाहिए और जब आप सास छोड़ते हो तो आपका पेट अंदर जाना चाहिए। यह नॉर्मल ब्रीथिंग से काफी अलग होता है। नॉर्मल ब्रीथिंग में हम सांस लेते हैं, तो हमारे सोल्डर ऊपर आ जाते हैं। लेकिन बैली ब्रीथिंग का तरीका बिल्कुल अलग है। इसमें सांस लेने की कैपेसिटी बढ़ जाती है। नॉर्मल ब्रीथिंग में ऐसा नहीं हो पाता आपकी अंदर ऐसे काफी ज्यादा ऑक्सीजन हो जाएगी। जिसकी मदद से आप काफी देर तक एक्सरसाइज कर सकते हो। आपकी बॉडी थकान फील नहीं करेगी। बेली ब्रीथिंग की प्रैक्टिस आपको हर रोज 5 से 10 मिनट करने हैं। अगर आपको अच्छा परफॉर्मेंस चाहिए तो belly ब्रीथिंग एक अच्छा प्लेटफार्म है।

  • Belly breathing patterns-

लोगों का क्वेश्चन यह होता है, कि हमें कितनी सांस लेनी चाहिए कि पैटर्न में हमें सांस लेनी चाहिए। यह अपनी छमता के अकॉर्डिंग ही लेनी चाहिए। अगर आप  नॉर्मल रनिंग कर रहे हो तो आप 3:3 ratio मतलब 3 स्टेप में सांस लें और 3-step में सांस बाहर निकाले। इसके बाद अगर आप एक्सपर्ट हो जाते हो फिर आप long-distance तक रनिंग कर रहे हो, तो आप 1:1 ratio मैं सांस लेने की कोशिश करें।

आशा करते हैं आपको इससे काफी मदद मिली होगी। आपको इससे रिलेटेड कोई भी सवाल आपके मन में है तो हमें कमेंट करके जरूर बता सकते हो। हमारे साथ जुड़े रहने के लिए धन्यवाद।


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां